OMG ! प्रेमिका ने की बेवफाई तो गला घोट कर डाली हत्या, पुलिस की गंभीरता से आरोपी सलाखों के पीछे, अब न्यायालय ने सुनाई ये सजा

प्रेमिका ने की बेवफाई तो गला घोट कर डाली हत्या, पुलिस की गंभीरता से आरोपी सलाखों के पीछे, अब न्यायालय ने सुनाई ये सजा

OMG ! प्रेमिका ने की बेवफाई तो गला घोट कर डाली हत्या, पुलिस की गंभीरता से आरोपी सलाखों के पीछे, अब न्यायालय ने सुनाई ये सजा

रामपुर। प्रेमिका की बेवफाई पर गला घोट उसकी हत्या कर दी गई है, घटना में पुलिस ने गंभीरता दिखाते हुए आरोपी को गिरफतार कर लिया है 

मिली जानकारी के अनुसार फरियादी राजबहादुर पिता रामाश्रय साकेत 43 निवासी बेला थाना रामपुर ने शिकायत दर्ज कराई कि उसकी पत्नी माला उर्फ दीपा साकेत उम्र 40 वर्ष की दिनांक 25 सितम्बर को घर बेला से महाराज पब्लिक स्कूल बेला रोजाना की तरह खाना बनाने सुबह 08.00 बजे निकली थी जो शाम 06.00 बजे तक वापस घर नहीं लौटी 

जब पति ने स्कूल में पूछताछ की तो स्टाॅफ ने बताया कि वह रोजाना की तरह शाम 6 बजे ही अपने घर के लिए रवाना हो गई थी, इसके अलावा पति ने अपने रिश्तेदारों के यहां भी पूछताछ की लेकिन महिला का कोई पता नहीं चला, पुलिस ने युवक की शिकायत पर मामलें की जांच शुरू करते हुए महिला को तलाशना शुरू किया 

पुलिस के सूचना मिली की ग्राम केसौरा लिलजी बांध के नीचे किसी अज्ञात महिला की लाश पड़ी है, फरियादी राजबहादुर एवं ग्राम वासियो की उपस्थिति में पुलिस टीम द्वारा मृतिका की पहचान गुमशुदा माला उर्फ दीपा साकेत पति राजबहादुर साकेत उम्र 40 वर्ष निवासी बेला की गई, जिसके बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर मामलें की जांच शुरू की 

जिसके बाद पुलिस अधीक्षक धर्मवीरसिंह के आदेशानुसार थाना प्रभारी राजेन्द्र मिश्रा द्वारा टीम का गठन किया गया, फिर घटना की कड़ी से कड़ी मिलाना शुरू की गई, जिसके बाद पुलिस ने विवेचना के आधार पर आरोपी अशोक साकेत पिता भोदूलाल साकेत उम्र 41 वर्ष निवासी रानी तालाब मंदिर के पास थाना कोतवाली रीवा गिरफ्तार कर पेश न्यायालय किया गया। इस पर माननीय न्यायालय के आदेशानुसार न्यायिक अभिरक्षा में केन्द्रिय जेल सतना में निरूद्ध किया गया है । 

सराहनीय भूमिका-

उक्त कार्यवाही में थाना प्रभारी थाना रामपुर बाघेलान निरी राजेन्द्र मिश्र, सउनि रविन्द्र द्विवेदी, आर अनूप मिश्रा, शिवकुमार तिवारी, इन्द्रजीत अग्निहोत्री, नितीस यादव, जयबहादुर सिंह, गौरव मिश्रा, देवेन्द्र सिंह और आरक्षक कृष्ण राज तोमर आदि की विशेष एवं सराहनीय भूमिका रही ।