OMG ! रिपोर्ट और डॉक्टर का ट्रीटमेंट, फिर बिगड़ी तबीयत, उदयपुर अस्पताल में खुलासा, रुपेश शक्तावत बोले, देवधर डायग्नोस्टिक सेंटर से गलत MRI तैयार, एक दिन होता लेट, तो चली जाती पत्नी की जान, पढ़े खबर

रिपोर्ट और डॉक्टर का ट्रीटमेंट, फिर बिगड़ी तबीयत, उदयपुर अस्पताल में खुलासा, रुपेश शक्तावत बोले, देवधर डायग्नोस्टिक सेंटर से गलत MRI तैयार, एक दिन होता लेट, तो चली जाती पत्नी की जान, पढ़े खबर

OMG ! रिपोर्ट और डॉक्टर का ट्रीटमेंट, फिर बिगड़ी तबीयत, उदयपुर अस्पताल में खुलासा, रुपेश शक्तावत बोले, देवधर डायग्नोस्टिक सेंटर से गलत MRI तैयार, एक दिन होता लेट, तो चली जाती पत्नी की जान, पढ़े खबर

नीमच। शहर की एक महिला की एमआरआई रिपोर्ट को गलत तैयार करने का बड़ा मामला सामने आया है। मामले का खुलासा तब हुआ, जब महिला की तबीयत बिगड़ी और उनके पति महिला को उदयपुर इलाज के लिए लेकर पहुंचे। जहां डाॅक्टरों ने नीमच में हुई एमआरआई को गलत बताया, जिसके बाद महिला के पति ने मामले को लेकर जिला कलेक्टर, जिला अस्पताल सीएमओं और आईएमए के अध्यक्ष को शिकायती आवेदन सौंपा है। 

जानकारी देते हुए शहर के ग्वालटोली निवासी रूपेश शक्तावत ने बताया कि उनकी पत्नी गीतांजली शक्तावत की पिछले कुछ दिनों से तबीयत खराब चल रही है। जिनके उपचार के लिए बीती 31 जनवरी को डाॅक्टर गोयल से मुलाकात की, इस दौरान डाॅक्टर गोयल ने उन्हे एमआरआई कराने की सलाह दी। 

उन्होंने बताया कि डाॅक्टर की सलाह के बाद वह अपनी पत्नी गीतांजली को लेकर शहर के शास्त्री नगर स्थित देवधर डायग्नोस्टिक सेंटर लेकर पहुंचे। जहां डाॅक्टर द्वारा महिला की एमआरआई कराई, और उसकी एवज में डाॅक्टर को 5 हजार रूपए दिए। जिसके बाद रूपेश अपनी पत्नी गीतांजली की रिपोर्ट लेकर फिर से डाॅक्टर गोयल के पास पहुंचे। जहां डाॅक्टर गोयल द्वारा एमआरआई रिपोर्ट के आधार पर रूपेश की पत्नी गीतांजली का उपचार आगे बढ़ाया। 

शक्तावत ने यह भी बताया कि डाॅक्टर द्वारा दिए गए उपचार के ठीक एक दिन बाद यानिं 31 जनवरी की शाम महिला की तबीयत अचानक बिगड़ गई। जिस पर उन्होंने जरा भी देर नहीं की, और वह अपनी पत्नी को लेकर सीधे 1 फरवरी की सुबह उदयपुर स्थित गीतांजली हाॅस्पिटल लेकर पहुंचे, जहां डाॅक्टरों द्वारा उनका गंभीरता से उपचार शरू किया गया। 

रुपेश शक्तावत ने बताया कि नीमच स्थित देवधर डायग्नोस्टिक सेंटर पर की गई एमआरआई उदयपुर के डाॅक्टरों को दिखाई, तो उन्होंने साफ तोर पर कर दिया, कि इस एमआरआई की क्वालिटी अच्छी नहीं है, और ना ही यह रिपोर्ट सही है। जिसके बाद उदयपुर में महिला की एमआरआई कराई गई। उदयपुर में हुई एमआरआई के बाद एक बड़ी बात सामने आई, जिसमे महिला तबीयत बिगड़ने का कारण भी सामने आया। 

जी हां, दरसअल उदयपुर में हुई एमआरआई में बीमार महिला के सिर और कंधे पर खून का धब्बा नजर आया। जिसके कारण ही उनकी तबीयत बिगड़ रही है। फिलहान महिला का उपचार उदयपुर में जारी है। 

जिसके बाद रूपेश शक्तावत ने मामले की शिकायत जिला कलेक्टर मयंक अग्रवाल, जिला अस्पताल सीएमएचओं और आईएमए के अध्यक्ष को की, और मामले में उचित कार्यवाही की मांग की है। 

इनका कहना- 

हां, मेरे द्वारा 33 वर्षीय महिला गीतांजली शक्तावत की एमआरआई रिपोर्ट तैयार की गई थी। रिपोर्ट कम्प्यूटराईज्ड है। उनके गलत सही जैसा कुछ नहीं है। मेरे द्वारा तैयार की गई एमआरआई रिपोर्ट पूरी तरह से सही और सटीक है। आप उसे कही भी चेक करवा सकते है। आरोप प्रत्यारोप लग रहे है, तो उसका में कुछ नहीं कर सकता हूं, क्योंकि आरोप तो कोई लगा सकता है।- शैलेन्द्र देवधर, देवधर डायग्नोस्टिक सेंटर