BIG NEWS: नागदा में खस्ताहाल सड़क पर गरमाई राजनीती, बुधवार को कांग्रेस ने सौंपा ज्ञापन, आज पूर्व विधायक शेखावत का बड़ा बयान- बोले कांग्रेस नौटंकी करना करें बंद, पड़े बबलू यादव की खबर

नागदा में खस्ताहाल सड़क पर गरमाई राजनीती, बुधवार को कांग्रेस ने सौंपा ज्ञापन, आज पूर्व विधायक शेखावत का बड़ा बयान- बोले कांग्रेस नौटंकी करना करें बंद, पड़े बबलू यादव की खबर

BIG NEWS: नागदा में खस्ताहाल सड़क पर गरमाई राजनीती, बुधवार को कांग्रेस ने सौंपा ज्ञापन, आज पूर्व विधायक शेखावत का बड़ा बयान- बोले कांग्रेस नौटंकी करना करें बंद, पड़े बबलू यादव की खबर

नागदा। पूर्व विधायक दिलीपसिंह शेखावत का एक बड़ा बयान सामने आया है। इस दौरान उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया कि कांग्रेस के मित्रों से निवेदन है कि वह नौटंकी करना बंद कर विकास के कार्यो की तरफ ध्यान दें। नागदा-खाचरौद सड़क जो कि 15 सितम्बर 2017 को तत्कालीन भारतीय जनता पार्टी की सरकार में नागदा-खाचरौद-रतलाम रोड को स्टेट हाईवे की श्रेणी में घोषित कर दिया था। इस कारण से नागदा-खाचरौद-रतलाम रोड को स्टेट हाईवे की गुणवत्ता वाली रोड़ बनाने की प्रक्रिया चालु हो गई थी। इस सड़क का पूर्व में 23/2/2016 को रिन्यूवल का कार्यादेश दिया गया, एवं 16/9/2016 को रिन्यूवल का कार्य पूर्ण हुआ। इस रिन्यूवल का जो गारंटी थी, वह 3 साल की थी। इस मान से इसका पुनः रिन्यूवल 16/9/2019 को होना चाहिये था। 

शेखावत ने कांग्रेसियो से प्रश्न किया कि आप याद करिये कि 2019 में सरकार किसकी थी, और नागदा-खाचरौद में विधायक कौन था...? अगर 2019 में इसका रिन्यूवल हो जाता, तो आज इस सडक की हालत इतनी खराब नहीं होती। अगर 2019 में इस सड़क का रिन्यूवल नहीं हुआ है, तो इससे प्रतीत होता है कि वर्तमान विधायक इस कार्य के प्रति कितने गंभीर थे...? नागदा-खाचरौद सड़क दो तहसीलो को जोड़ने वाली मुख्य सड़क है, एवं उद्योग के लिये यह सड़क अति महत्वपूर्ण सड़क है। नागदा-खाचरौद सडक के रिन्यूवल के लिये विगत 3 दिन पूर्व मेरी जिले के कार्यपालन यंत्री लोकनिर्माण विभाग उज्जैन पटेल से मेरी विस्तृत चर्चा हुई थी। 

जिन्होने मुझे बताया कि इस सड़क को स्टेट हाईवे की गुणवत्ता वाली सडक बनाने हेतु 2 माह पूर्व ही इसका सर्वे किया जा चुका है, एवं आत्मनिर्भर योजना के तहत नागदा से खाचरौद सड़क को जो वर्तमान में जिसकी चौडाई 7 मीटर की है हम इसे 10 मीटर का बनाने का प्रस्ताव बना रहे है साथ ही सड़क के डामर की मोटाई भी उद्योग के भारी वाहनो को देखते हुए ली जावेगी। पटेल ने मुझे यह आश्वासन दिया है कि नागदा-खाचरौद रोड को जल्द से जल्द ठीक करेंगे, एवं खाचरौद से घिनोदा रोड को जल्द रिन्यूवल कर देंगे। 

कांग्रेस के मित्रो को जब इस बात की भनक लगी, तो उन्होंने झूठा श्रेय लेने के लिये नौटंकी करते हुए उक्त रोड़ के रिपेयरिंग का ज्ञापन खाचरौद एस.डी.एम. ऑफिस में दिया। जबकि वे जानते है कि अब रोड़ रिपेयरिंग की कार्यवाही हमने प्रारम्भ कर दी है। अपने कांग्रेस कार्यकाल के 16 माह में क्यों नहीं ज्ञापन दिया था या कोई रोड़ स्वीकृत करा पाये...?

शेखावत ने बताया कि जनता जानती है कि देश आजादी के बाद कांग्रेस करीब 55 वर्षो तक म.प्र. में काबिज रही जिसमें पूर्व में 15 वर्षो तक कांग्रेस के विधायक क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करा एवं वर्तमान में भी वे विधायक है। कांग्रेस के मित्रो याद करो नागदा से महिदपुर, नागदा से खाचरौद, खाचरौद से बड़नगर, नागदा से जावरा, नागदा से उज्जैन एवं खाचरौद से रतलाम तक की सड़के काफी खराब थी, एवं कांग्रेस के मित्रो को याद नहीं होगा कि 1-1 फीट के गड्ढे इन सड़को पर थे। पूरे विधानसभा की सड़को का यही हाल था, साधु-संत तक ने खाचरौद-बड़नगर रोड़ के सफर को जीवन का सबसे खराब सफर बताया था एवं नागदा के बिरला समुह ने भी पूर्व में इन खराब सड़को के बारे में अपनी नाराजगी व्यक्त की है। खराब सडको के कारण पूर्व में जो नवीन उद्योग यहा लगने थे शायद वह नहीं लग पाये और नवीन इन्वेस्टमेन्ट गुजरात चला गया और स्थानीय युवाओं को मिलने वाला रोजगार उन्हें नहीं मिल पाया।

शेखावत ने बताया कि कांग्रेस के जनप्रतिनिधि ने एक भी सड़क को स्वीकृत कराना तो ठीक रिपेयरिंग तक नहीं करा पाये। जबकि हमने वर्ष 2013 से 2018 के मध्य 5 वर्षो में ही 788 करोड़ की लागत से 741 किमी की 101 सड़को का निर्माण करके क्षेत्रवासियों को सुलभ आवागमन की सौगात दिलाई थी। जिसमें प्रमुख रूप से नागदा-महिदपुर रोड़, नागदा-जावरा रोड़, नागदा-उज्जैन रोड़, नागदा-खाचरौद-रतलाम रोड़, खाचरौद से बड़नगर रोड़, नागदा-खाचरौद रिंग रोड़ सहित ग्रामीण क्षेत्रो को शहर से जोड़ने वाली करीब 70 सड़को का निर्माण कराया गया था।  जिससे अधिकांश ग्रामीण क्षेत्र शहर से जुड़ गया है।

शेखावत ने बताया कि खाचरौद से चामुण्डामाता बेहलोला रोड जिसका कार्यादेश 20/6/2016 को दिया और 12/1/2018 को इस कार्य पूर्ण हो गया। साथ ही भाटखेडी से लेकोडिया 22/10/16 को कार्यादेश एवं 23/1/2018 को कार्य पूर्ण हुआ एवं बुरानाबाद से नवोदय विद्यालय 26/10/16 को कार्यादेश एवं 23/6/2017 को कार्य पूर्ण हुआ। साथ ही नरसिंहगढ से नंदवासला सड़क का कार्य 1 वर्ष में पूर्ण हो गया। खाचरौद से रतलाम रोड़ जो कि सम्पूर्ण सडक सीमेन्ट कांक्रीट से बनी है एवं जिसकी लंबाई 28 किलोमीटर है इस सड़क को भी हमने मात्र 2 वर्षो में पूर्ण करा दिया है। 

क्या कारण है कि जो सड़के 2017-18 में स्वीकृत हुई जैसे चिरोला से मड़ावदा फन्टा तक सड़क, बंजारी से मीण सड़क, बोरदिया से रिंगनिया सड़क, वाचाखेड़ी से चंदवासला सड़क, कमठाना से बरथून सड़क, निनावटखेड़ा से किलोड़िया सड़क, सोनचिढ़ी से संडावदा सड़क एवं नागदा से भाटीसुड़ा-भीकमपुर-संदला-सुरेल-लुहारी-चिरोला तक सड़क, नंदियासी से भुवासा सडक सहित ऐसी अनेक सडके है जिनके कार्य 2017-18 मे हो गये लेकिन 2021 समाप्त होने वाला है लेकिन आज दिनांक तक अनेक सडको के कार्य अपूर्ण है या कार्य प्रारंभ ही नहीं हुए है ?  शेखावत ने कांग्रेस के वर्तमान विधायक पर गंभीर आरोप लगाते हुए बताया कि म.प्र. में विकास की दृष्टि से सबसे उदासीन विधायक अगर कोई है तो नागदा-खाचरौद के विधायक इसमें अव्वल नंबर रहेंगे।

शेखावत ने बताया कि भविष्य में उमरना ब्रिज एवं जावरा फाटक ब्रिज, नायन ब्रिज को हम जल्द पुर्ण करायेंगे साथ ही नागदा के रतलाम फाटक का कार्य जल्द प्रारंभ करवाने के लिये मैं संबंधीत विभाग के अधिकारियो एवं माननीय मंत्रीजी से सतत सम्पर्क कर रहा हूँ। कांग्रेस के मेरे मित्रो से निवेदन है कि विकास के कार्यो को करवाने में ध्यान दे ना कि स्वीकृत होने वाले कार्यो का अधिकारियों से पता लगाकर ज्ञापन देकर झुठी वाहवाही लेना बंद करे क्योंकि जनता सब जानती है कि विकास केवल भाजपा ही कर सकती है। आपका 16 माह का कार्यकाल जनता ने देखा है आपने नये काम स्वीकृत कराना तो दूर जो काम वर्ष 2018 में स्वीकृत हो चुके थे जिसमें कन्या महाविद्यालय, नागदा सिविल हास्पीटल भवन, पाडसुतिया, बागेड़ी, मलेनी नदी पर डेम जिसका कार्य ही प्रारम्भ नहीं करा पाये। जिनको हमें अभी प्रारम्भ कराना है।

मैं कांग्रेस के मित्रों को कहना चाहूंगा कि मात्र ज्ञापन देने से कार्य स्वीकृत नहीं होते है उसके लिये समय निकालकर क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों को कार्ययोजना बनाकर विभागवार प्रयास करना पड़ता है तब कहीं जाकर विकास कार्य स्वीकृत होते है।