BIG NEWS: पश्चिम बंगाल के रण में ज्योतिरादित्य सिंधिया की एंट्री, अब चौथे चरण में होंगे BJP के स्टार प्रचारक, कांग्रेस को क्यों मिला जवाब !.. पढ़े इस खबर में

पश्चिम बंगाल के रण में ज्योतिरादित्य सिंधिया की एंट्री, अब चौथे चरण में होंगे BJP के स्टार प्रचारक, कांग्रेस को क्यों मिला जवाब !.. पढ़े इस खबर में

BIG NEWS:  पश्चिम बंगाल के रण में ज्योतिरादित्य सिंधिया की एंट्री, अब चौथे चरण में होंगे BJP के स्टार प्रचारक, कांग्रेस को क्यों मिला जवाब !.. पढ़े इस खबर में

डेस्क। पश्चिम बंगाल के रण में आखिरकार बीजेपी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की भी एंट्री हो गई है। बीजेपी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को बंगाल में स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल किया है। बंगाल में हो रहे विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के लिए जारी की गई स्टार प्रचारकों की सूची में ज्योतिरादित्य सिंधिया को शामिल किया गया है।

इस सूची में बीजेपी ने 30 नेताओं को शामिल किया है। जिसमें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के नाम भी हैं। हालांकि यह दोनों नेता इससे पहले ही जारी हुई स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल थे, लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम शामिल ना होने की वजह से कांग्रेस की ओर से सवाल उठाए गए थे।

कांग्रेस को जवाब- 

इससे पहले स्टार प्रचारकों की सूची में ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम शामिल ना होने की वजह से कांग्रेस लगातार तंज कस रही थी। कांग्रेस की और से यह कहा गया था कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को बीजेपी में बैकबेंचर बन दिया गया हैं। वो महाराज से भाई साहब होकर रह गए हैं। लेकिन अब स्टार प्रचारकों की चौथे चरण के लिए आई सूची में उन्हें को शामिल किया गया है। लिहाजा बीजेपी ने एक तरह से कांग्रेस को जवाब दिया है।

सिंधिया के स्टार प्रचारक बनने के मायने

ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए हैं। उनके दलबदल के कारण ही कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरी, और बीजेपी सत्ता में आयी। सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के साथ ही यह अटकलें लगाई जा रही थीं कि उन्हें केंद्र में मंत्री बनाया जा सकता है। 

हालांकि ऐसा हुआ नहीं, इसी का फायदा उठाकर कांग्रेस की और से अक्सर सवाल उठाए जाते रहे हैं। पश्चिम बंगाल में भी विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस के कई नेता बीजेपी में शामिल हुए हैं। सिंधिया को स्टार प्रचारक बनाकर बीजेपी कहीं ना कहीं यह संदेश देना चाहती है कि दूसरे दल से आए नेताओं को भी पार्टी में सम्मान दिया जाता है।