OMG ! सीधी के सर्किट हाउस पहुंचे सीएम शिवराज, तो रातभर मच्छरों ने काटा, प्रशासन में मची खलबली, प्रभारी इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता तत्काल प्रभाव से सस्पेंड

OMG ! सीधी के सर्किट हाउस पहुंचे सीएम शिवराज, तो रातभर मच्छरों ने काटा, प्रशासन में मची खलबली, प्रभारी इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता तत्काल प्रभाव से सस्पेंड

OMG ! सीधी के सर्किट हाउस पहुंचे सीएम शिवराज, तो रातभर मच्छरों ने काटा, प्रशासन में मची खलबली, प्रभारी इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता तत्काल प्रभाव से सस्पेंड

डेस्क। सीधी में 16 फरवरी को हुए दर्दनाक बस हादसे के बाद 17 को सीएम शिवराज सिंह चौहान वहां के हालात जानने पहुंचे थे। यहां हर जगह उनका पाला अपने ही प्रशासन की खामियों से पड़ गया। सीएम शिवराज दिनभर के दौरा करने के बाद जब सर्किट हाउस आराम के लिए पहुंचे, तो सीएम की नींद मच्छरों ने उड़ा दी। रातभर शिवराज को मच्छर काटते रहे। नींद नहीं आई तो, आधी में ही रात अधिकारियों की क्लास लगी, और ढाई बजे मच्छर मारने की दवा छिड़की गई।

सीएम की नींद में खलल पड़ा, तो प्रशासन में खलबली मचना तय थी। इस मच्छर कांड के बाद सर्किट हाउस के प्रभारी इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता को सस्पेंड भी कर दिया गया है।

मच्छरों से निपटने के बाद टंकी ओवरफ्लो- 

सीएम शिवराज से दिनभर दौरे के बाद रात करीब 10 बजे कलेक्टर ऑफिस में अफसरों की बैठक ली। साढ़े ग्यारह बजे जब वह सर्किट हाउस पहुंचे, तो कुछ नेता मिलने पहुंच गए। 

सूत्र बताते हैं कि शिवराज रात 12 बजे के आसपास अपने कमरे में आराम के लिए चले गए, लेकिन यहां मच्छरों ने शिवराज को सोने नहीं दिया। यहां मच्छरदानी भी नहीं थी। आखिरकार रात ढाई बजे दवा का छिड़काव हुआ, तो CM को थोड़ा आराम करने का मौका मिला, लेकिन अव्यवस्थाओं ने फिर नींद तोड़ दी।

सुबह 4 बजे पानी की टंकी ओवरफ्लो हो गई। आवाज आने से नींद खुल गई तो सीएम खुद उठकर मोटर बंद करवाने गए। मोटर बंद करने का सिस्टम भी भगवान भरोसे था। सर्किट हाउस में परेशानियों से भरी रात गुजारने के बाद शिवराज भोपाल रवाना हो गए।

वही बताया जा रहा है कि शिवराज सीधी में जब मृतकों के परिजनों से मिलने गए थे, तो उन्हें पता चला कि लोग सिस्टम से नाराज हैं। इसके बाद जब CM ने अफसरों की बैठक ली, तो इस बात का जिक्र उन्होंने किया। उन्होंने कहा कि अफसर सतर्क रहते तो ये हादसा होता ही नहीं। 

यह आदेश-