EXCLUSIVE NEWS: पिता बने ढाल, तो 8 साल की नन्ही परिन ने किया कमाल, यूट्यूब पर बनाया अपना चैनल, फिर चंद मिनटों में बता दिया नीमच का इतिहास, सीआरपीएफ और काले सोने अफीम को लेकर भी दी जानकारी, जानेंगे तो आप भी रह जाएंगे हैरान

पिता बने ढाल, तो 8 साल की नन्ही परिन ने किया कमाल, यूट्यूब पर बनाया अपना चैनल, फिर चंद मिनटों में बता दिया नीमच का इतिहास, सीआरपीएफ और काले सोने अफीम को लेकर भी दी जानकारी, जानेंगे तो आप भी रह जाएंगे हैरान

EXCLUSIVE NEWS: पिता बने ढाल, तो 8 साल की नन्ही परिन ने किया कमाल, यूट्यूब पर बनाया अपना चैनल, फिर चंद मिनटों में बता दिया नीमच का इतिहास, सीआरपीएफ  और काले सोने अफीम को लेकर भी दी जानकारी, जानेंगे तो आप भी रह जाएंगे हैरान

नीमच। आपने यह तो देखा होगा की आज के समय में बच्चों को मोबाइल फोन चलाने में एक अलग ही आनंद आता है। यदि बच्चों को मोबाइल दे दिया जाए, तो वह अपनी और मोबाइल की दुनिया में खो जाते है। लेकिन क्या आपने कभी यह देखा और सूना है कि बच्चे मोबाइल पर अन्य लोगों को देख अपना ही भविष्य बनानें की तैयारी छोटी सी उम्र में कर है। 

अगर नहीं देखा है तो आज हिन्दी खबरवाला आज आपकों एक ऐसी ही नन्ही परी से रूबरू कराने जा रहा है। जिसने महज 8 साल की उम्र में अपना यूट्यूब चैनल बनाया और मिनटों में नीमच शहर का इतिहास बता दिया। 

जी हां, हम बात कर रहे है नीमच शहर के टीचर काॅलोनी निवासी डाॅक्टर सत्यजीत पंडित की महज 8 साल की नन्ही सी बेटी परिन पंडित की, परिन ने अपने बर्थडे पर अपना ही एक यूट्यूब चैनल परिन वेनिटी के नाम से शुरू किया।

जिसके बाद परिन में अपना पहला विडियों अपने जन्मदिन के दिन 17 नवंबर को भगवान शिव की शरण में स्थानीय किलेश्वर महादेव मंदिर पहुंचकर शुट किया। इस दौरान परिन ने सबसे पहले किलेश्वर महादेव मंदिर के इतिहास को बारिकी से बताया। जिसके बाद एक-एक कर नीमच शहर की स्पेलिंग के फुलर्फाेम के साथ पूरे शहर का इतिहास की खोल डाला। 

अपने विडियों में नन्ही परिन ने किलेश्वर महादेव मंदिर और भगवान शिव के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि किलेश्वर महादेव मंदिर का निर्माण 1850 से 1860 के बीच हुआ था। उस समय मंदिर में हिंदू सैनिक भगवन शिव की पूजा-अर्चना करने मंदिर पहुंचते थे। 

इसके अलावा महाशिवरात्रि आने पर मंदिर में महा पूजा का आयोजन किया जाता था। इस दौरान भगवान शिव के महापूजन में मालवा और मेवाड़ के हजारों श्रध्दालु शामिल होते थे। उसी के बाद से भगवान शिव के किलेश्वर धाम में महाशिवरात्रि पर तीन दिवसीय मेले के आयोजन की शुरूआत हुई।  

अपने विडियों के माध्यम से परिन ने किलेश्वर महादेव मंदिर के गर्भगृह में विराजी भगवान शिव की प्रतिमा के संबंध में बारिकी से जानकारी दी, और बताया कि भगवान शिव शरण में यदि कोई भक्त जाता है और मन्नत मांगता है, तो भगवान शिव अपने भक्त की मन्नत को पूरा जरूर करते है। साथ ही परीना ने मंदिर में घूमते हुए पूरे परिसर में मौजूद हर एक चीज के संबंध में बारिकी से जानकारी दी। 

जिसके बाद परिन ने नीमच के इतिहास के सम्बन्ध में जानकारी देना शुरू की। जिसमे परिन ने बताया कि सीआरपीएफ (कैंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स) की जन्मस्थली नीमच है। ब्रिटिश शासनकाल में यह छावनी के रूप में स्थापित हुई थी। वहीं आजादी के बाद यह पेरामिलीट्री फोर्स में परिवर्तित हो गई। 

परिन ने विडियों में बताया कि नीमच जिले में मौजूद किसानों द्वारा सबसे ज्यादा काले सोने (अफीम) का प्रोडक्शन किया जाता है, और सबसे बड़ा अफीम कारखाना नीमच में ही मौजूद रहे। 

आपकों बता दें कि परिन ने पहलें नीमच शहर के संबंध में जानकारियों का पहले बारिकी से अध्ययन किया। जिसके बाद परिन की ढाल बनकर खड़े उनके पिता ने परिन हौसला दिया। विडियों बनाते हुए जहां परिन थमती तो कैमरे के पीछे मौजूद उनके पिता उन्हें हौसला देते। परिन ने कुछ याद किया तो कुछ कागज पर लिखे शब्दों से सेंटेंस तैयार करते हुए बताया। बस इस तरह से परिन ने अपने यूट्यूब चैनल पर अपना पहला विडियों जारी किया, और चंद मिनटों में नीमच शहर का इतिहास बता दिया। 

बच्चों को देख बढ़ा हौसला- 

हिन्दी खबरवाला से चर्चा के दौरान परिन के पिता सत्यजीत पंडित ने बताया कि परिन रोजाना अपनी पढ़ाई-लिखाई से फ्री होकर मोबाइल और कम्प्यूटर में यूट्यूब चैनल देखा करती है। जिसमे कई बच्चों ने अपने चैनल बनाकर उन विडियों अपलोड किये हुए है। बस वहीं से परिन  का हौसले बुलंद हो गए, और उन्होंने अपना यूट्यूब चैनल बनवाया। जिसका नाम उन्होंने परिन वेनिटी रखा।