COURT: उज्जैन शराब कांड,9 अभियुक्तों को भेजा जेल तो 3 का मिला पुलिस रिमांड,सलाखों के पीछे पहुंचने में पुलिसकर्मी भी शामिल 

उज्जैन शराब कांड,9 अभियुक्तों को भेजा जेल तो 3 का मिला पुलिस रिमांड,सलाखों के पीछे पहुंचने में पुलिसकर्मी भी शामिल 

COURT: उज्जैन शराब कांड,9 अभियुक्तों को भेजा जेल तो 3 का मिला पुलिस रिमांड,सलाखों के पीछे पहुंचने में पुलिसकर्मी भी शामिल 

उज्जैन।  न्यायालय श्रीमती पुनीता चौहान, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्तगण 01. शेख फारूख पिता शेख यसीन 02. जितेन्द्र मुकाती पिता गोमाजी मुकाती 03. रामलखन यादव पिता शेसराम 04. रूपेश पिता जुगल किशोर 05. शेख अनवर पिता शेख यासीन 06. नवाज शरीफ पिता इकबाल 07 इरशाद कुरैशी पिता ईस्माल कुरैशी 08. सैयद फराशद अली उर्फ डॉ जुनैद पिता पात सैयद अली 09. संदीप सैनी पिता दुलीचंद को न्यायालय द्वारा न्यायिक अभिरक्षा (जे.आर.), में जेल भेजा गया तथा अभियुक्तगण 01. संजय पिता रामसेवक शर्मा 02. गब्बर उर्फ अब्दुल शकील पिता अब्दुल वहीद 03. यूनुस पिता यूसुफ खान को न्यायालय द्वारा पुलिस रिमाण्ड पर भेजा गया। 

अभियोजन उप-संचालक डॉ साकेत व्यास के निर्देशन में सहा. मीडिया सेल प्रभारी कुलदीपसिंह भदौरिया ने अभियोजन घटना अनुसार बताया कि दिनांक 14.10.2020 पुलिस थाना खाराकुंआ को थाने पर सूचना प्राप्त हुई कि मिर्जा नईम वेग मार्ग पर स्थित नगर निगम पार्किंग के अंदर से यूनुस, सिकंदर, गब्बर उर्फ अब्दुल व उनके साथियों ने दिनांक 14.10.2020 की सुबह से ही प्लास्टिक की थैलियों में भरकर अज्ञात जहरीला पेय पदार्थ (जहरीली शराब) विक्रय कर रहा था।  जिसके सेवन से 06 तत्काल मृत्यु हो गई थी, जिनकी मृत्यु के संबंध में मर्ग जॉच धारा 174 द.प्र.स. के अंतर्गत पुलिस थाना खाराकुंआ पर की गई।

उक्त घटना की प्रथम सूचना रिपोर्ट थाने के अपराध क्र. 132/20 धारा 328, 304, 34 भादवि तथा 49ए मध्यप्रदेश आबकारी अधिनियम के अंतर्गत दर्ज की गई। जिसके अनुसंधान के दौरान अभियुक्तगण को गिरफ्तार किया गया। मानव उपयोग के लिए अनुपयुक्त द्रव्य पदार्थ(जहरीली शराब) को विधिवत जप्त किया गया, प्रकरण में अनुसंधान जारी है। 

प्रकरण में अभियुक्तगण 01. संजय पिता रामसेवक शर्मा 02. गब्बर उर्फ अब्दुल शकील पिता अब्दुल वहीद 03. यूनुस पिता यूसुफ खान के पुलिस रिमाण्ड हेतु शासन की ओर से पैरवी श्री उमेश सिंह तोमर, सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी,  जिला उज्जैन द्वारा पैरवी की गई।