NEWS: केन्द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने वीडियों कॉन्फ्रेंस के माध्यम से किया रतलाम-चित्तौडग़ढ़ नवविद्युतीकृत रेल खंड का लोकार्पण

केन्द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने वीडियों कॉन्फ्रेंस के माध्यम से किया रतलाम-चित्तौडग़ढ़ नवविद्युतीकृत रेल खंड का लोकार्पण

NEWS: केन्द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने वीडियों कॉन्फ्रेंस के माध्यम से किया रतलाम-चित्तौडग़ढ़ नवविद्युतीकृत रेल खंड का लोकार्पण

चित्तौडग़ढ़। पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल के रतलाम-चित्तौडग़ढ़ रेल खंड का विद्युतीकरण पूर्ण होने के पश्चात 21 फरवरी, 2021 को  रेल, वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक  वितरण मंत्री, भारत सरकार के कर कमलों द्वारा सम्पन्न हुआ। 

इसकी जानकारी देते हुए मंडल रेल प्रवक्ता ने बताया कि भारतीय रेलवे द्वारा सभी ब्रॉडगेज रेल मार्गों पर वर्ष 2023 तक शत-प्रतिशत विद्युतीकरण के मिशन के अनुपालन के क्रम में पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल ने इस महत्वाकांक्षी लक्ष्य को हासिल करने के लिए हरसम्भव बेहतरीन प्रयास सुनिश्चित करने का संकल्प लिया है।

राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण उपजी विपरीत परिस्थितियों और कठिनतम चुनौतियों के बावजूद इस दिशा में निर्धारित लक्ष्य प्राप्त करने के लिए पश्चिम रेलवे पूरी तरह तैयार है।

इस क्रम में, रतलाम-चित्तौडग़ढ़  रेल खंड के विद्युतीकरण का कार्य सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है। यह कार्य केवल 18 महीनों में पूरा हो चुका है, जिनमें कोविड-19 के कारण अप्रैल, 2020 से सितम्बर, 2020 तक छह महीने की लॉकडाउन अवधि भी शामिल है। 

रतलाम-चित्तौडग़ढ़ रेल खंड पश्चिम रेलवे पर माल यातायात और यात्री परिवहन का एक महत्वपूर्ण रेलमार्ग है। इस खंड की विद्युतीकरण परियोजना को वर्ष 2016-17 में 205 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत पर मंजूरी दी गई थी। इस परियोजना की कुल लम्बाई 191 रुट किलोमीटर / 301 ट्रैक किलोमीटर है।

ट्रैक्शन सब स्टेशन और रखरखाव डिपो जावरा, सिंदपन, नीमच और चित्तौडग़ढ़ में बनाये गये हैं। इस मार्ग पर 9 निजी साइडिंग्स स्थित हैं, जो पश्चिम रेलवे के माल ढुलाई यातायात में महत्वपूर्ण योगदान दे रही हैं। इस खंड का विद्युतीकरण कार्य रिकॉर्ड समय के भीतर पूरा हो गया है, जो भारतीय रेलवे पर विद्युतीकरण के सर्वोत्तम परियोजना प्रदर्शनों में से एक है।  

पश्चिम रेलवे के इंदौर-रतलाम-चित्तौडगढ़ रेल खंड का विद्युतीकरण निर्बाध और द्रुतगामी कनेक्टिविटी प्रदान करेगा, जिसके फलस्वरूप मेल/ एक्सप्रेस तथा मालगाडिय़ों का परिचालन इलैक्ट्रिक ट्रैक्शन पर किया जा सकेगा। यह विद्युतीकरण रतलाम में कर्षण परिवर्तन की आवश्यकता को खत्म कर देगा। जिसके परिणामस्वरूप रतलाम यार्ड में इंजनों और वैगनों के डिटेंशन में कमी आयेगी और  रतलाम यार्ड का डी- कंजेशन सुनिश्चित किया जा सकेगा।

साथ ही यह उपलब्धि देश के पश्चिमी हिस्सों से मध्य और दक्षिणी भागों के साथ विद्युतीकृत ब्रॉडगेज लाइनों के माध्यम से सीधी रेल कनेक्टिविटी भी सुनिश्चित करेगी। इसके अलावा, पश्चिम रेलवे ने विद्युतीकरण के साथ फतेहाबाद -का रेल खंड के गेज रूपांतरण  भी पूरा कर लिया है।

यह परियोजना रतलाम से उज्जैन और इंदौर के  बीच फतेहाबाद के रास्ते तथा रतलाम से आगे उदयपुर, अजमेर,  जयपुर और उसके आगे तक इलेक्ट्रिक कर्षण के माध्यम से निर्बाध कनेक्टिविटी प्रदान करेगी। इन खंडों के विद्युतीकरण के बाद पश्चिम रेलवे के इस मार्ग पर अब 16 जोड़ी मेल /एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन इलेक्ट्रिक कर्षण पर करने की योजना बनाई गई है।

इनमें से कुछ ट्रेनें पूरी तरह डीजल कर्षण पर चल रही थीं और कुछ ट्रेनों को रतलाम डीजल शेड से डीजल लोको प्रदान किये जा रहे थे। अब, इस नये विद्युतीकृत अनुभाग पर अत्याधुनिक ऊर्जा कुशल 3 फेज़ शक्तिशाली इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव्स जैसे WAP7 को तैनात करना सम्भव होगा।

इसके फलस्वरूप  इस खंड पर मेल / एक्सप्रेस ट्रेनों की रफ्तार को लगभग एक घंटे तक बढ़ाया जा सकेगा। विद्युत कर्षण पर स्विच ओवर के परिणामस्वरूप ऊर्जा बिल में पर्याप्त बचत होगी और एचएसडी तेल की खपत को भी कम किया जा सकेगा। इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव द्वारा 1000 जीटीकेएम फ्रेट ट्रैफिक को हॉल करने की ऊर्जा लागत तकरीबन सिर्फ 27.50 रु. आती है, जो डीजल कर्षण के लिए आने वाली लगभग 150 रु. की लागत से काफी कम है।

महंगे डीजल ईंधन के स्थान पर बिजली के उपयोग के परिणामस्वरूप विदेशी मुद्रा की भी बचत सुनिश्चित होगी। बिजली के साथ डीजल की मौजूदा सेवाओं के आधार पर की गई तुलनात्मक गणना के अनुसार यात्री ट्रेनों के परिचालन पर प्रति वर्ष 9.2 करोड़ रुपये तथा माल ढुलाई सेवाओं पर प्रति वर्ष 18.34 करोड़ रुपये प्रति वर्ष अर्थात् लगभग 27.54 करोड़ की शुद्ध बचत सुनिश्चित होगी।  


रतलाम चित्तौडग़ढ़ खंड का विद्युतीकरण में लगभग 205.44 करोड़ का खर्च हुआ है तथा रतलाम मंडल के इस महत्वपूर्ण उपलब्धि का लोकार्पण माननीय रेल, वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री, भारत सरकार श्री पीयूष गोयल के कर कमलों द्वारा वीडियों कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सांसद रतलाम गुमान सिंह डामोर की गरिमामयी उपस्थिति में 21 फरवरी , 2021 को सम्पन्न हुआ।

इस कार्यक्रम में सांसद चित्तौडग़ढ़ सी. पी. जोशी चित्तौडग़ढ़ स्टेशन से शामिल हुए। इस दौरान मंडल रेल प्रबंधक विनीत गुप्ता, अपर मंडल रेल प्रबंधक के.के. सिन्हा सहित अन्य शाखाधिकारी, मंडल रेल उपभोक्ता सलाहकार समिति के सदस्य एवं बड़ी संख्या में नागरिकगण शामिल हुए।