BIG REPORT: संक्रमण से नहीं हुई एक भी मौत, तो आज 90 से ज्यादा युवाओं ने कराया मुंडन, निकाली भव्य पुष्पयात्रा, फिर ग्रामीणों ने किया सामूहिक भोजन, नीमच जिले से इस गांव में आस्था के आगे कोरोना ने भी टेके घुटने, पढ़े खबर

संक्रमण से नहीं हुई एक भी मौत, तो आज 90 से ज्यादा युवाओं ने कराया मुंडन, निकाली भव्य पुष्पयात्रा, फिर ग्रामीणों ने किया सामूहिक भोजन, नीमच जिले से इस गांव में आस्था के आगे कोरोना ने भी टेके घुटने, पढ़े खबर

BIG REPORT: संक्रमण से नहीं हुई एक भी मौत, तो आज 90 से ज्यादा युवाओं ने कराया मुंडन, निकाली भव्य पुष्पयात्रा, फिर ग्रामीणों ने किया सामूहिक भोजन, नीमच जिले से इस गांव में आस्था के आगे कोरोना ने भी टेके घुटने, पढ़े खबर

स्पेशल रिपोर्ट- बद्रीलाल गुर्जर

नीमच। भगवान के प्रति मन में आस्था और विश्वास के चलते हर इंसान उनके दरबार में माथा टैकने जाता है, और अपने मन की बात भगवान के समक्ष रखता है। साथ ही विभिन्न प्रकार की मन्नते भगवान से बोली जाती है, और वह पूरी होने पर भगवान को दिया गया वादा भी पूरा किया जाता है। इसी की तर्ज पर नीमच जिले के एक गांव में भी युवाओं ने भगवान से एक ऐसी मानता बोली, जिसे भगवान ने पूरा कर दिया, और इसके बदले में युवाओं ने अपना वादा पूरा करते हुए मुंडन कराया। यह सुनने में अजीबों-गरीब लग रहा है, लेकिन यह सच है। 

हम बात कर रहे है नीमच जिले की मनासा तहसील के ग्राम देवरी-खवासा की। इस गांव में करीब 1850 वोटर है, और गांव की जनसंख्या 2800 से 3000 के लगभग है। बीते महिनों जब कोरोना की दूसरी लहर ने अपना प्रकोप जिले में दिखाया था, तो देवरी-खवासा गांव के युवाओं ने अपने ही गांव में स्थित मंदिर में भगवान देवनारायण से मन्नत मांगी थी, जो कि पूरी हो गई। 

इस पर शुक्रवार को गांव के युवाओं ने भगवान देवनारायण मंदिर में एक विशाल कार्यक्रम का आयोजन किया। यहां करीब 97 युवाओं ने मन्नत पूरी होने पर मुन्डन कराया, जिसके बाद गांव के मुख्य मार्गो पर डोल और डीजे के माध्यम से पुष्प यात्रा निकाली गई, यह विशाल शोभायात्रा देवनारायण मंदिर से शुरू होकर गांव के मुख्य मार्गो से होती हुई पुनः देवनारायण मंदिर पहुंची। जिसके बाद पूरे गांव ने महाप्रसादी का लाभ लिया। 

गौरतलब है कि बीते महिनों देश और प्रदेश के साथ नीमच जिले में भी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने अपना प्रकोप दिखाया था। इस दौरान नीमच जिले में निवास करने वाले सैकड़ों लोगों ने अपनी जान इसी संक्रमण के चलते गवाई थी, लेकिन गांव देवरी खवासा में भगवान की मन्नत के आगे आखिरकार कोरोना संक्रमण ने अपने घूटने टैक दिए। 

आस्था के आगे कोरोना ने मानी हार- 

आपकों बता दें कि युवाओं ने भगवान देवनारायण से मन्नत मांगी थी कि, यदि गांव में कोरोना संक्रमित होने पर एक भी मौत नहीं होती है, तो युवा मुन्डन कराएंगे। युवाओं की इस मन्नत को भगवान देवनारायण से सुना, और कोरोना की पूरी दुसरी लहर के दौरान गांव में एक भी व्यक्ति की जान नहीं गई, हां, करीब 4 से 5 लोगों कोरोना से संक्रमित जरूर हुए थे, लेकिन वह भी उपचार के बाद पूरी तरह से ठीक हो गए।